Full Form of URL | What is URL? In Hindi

Full Form of URL| यूआरएल का फुल फॉर्म क्या होता है? यूआरएल कैसे काम करते हैं? हम इन सभी प्रश्नों का उत्तर आप को एक-एक करके देने वाले हैं तो चलिए बात करते हैं यूआरएल के फुल फॉर्म फुल फॉर्म के बारे में।

What is the Full form of URL ?

Full form of Url is Uniform Resources Locator
Full form of url

यूआरएल URL क्या होता है?

इंटरनेट पर जितने भी वेबसाइट उपलब्ध हैं सभी का अलग-अलग यूआरएल होता है जैसे की गूगल का यूआरएल है google.com और Yahoo का यूआरएल है yahoo.com

यूआरएल किसी वेबसाइट या फिर किसी साइट के पेज का एक एड्रेस होता है जो आपको होता है जो आपको उस पेज तक ले जाता है।

जैसे कि आपको फेसबुक चलाना है तो अब यूआरएल में क्या टाइप करेंगे, www.facebook.com टाइप करने के बाद आपको वह जिस पेज पर ले ले जाएगा वह फेसबुक का होमपेज  होगा।

क्या आप जानते हैं URL की शुरुआत किसने की थी? और URL का इस्तेमाल कब से शुरू होने लगा? तो चलिए जानते हैं।

इसकी  शुरुआत Tim Berners Lee ने की थी  और 1994 में की। तभी यूआरएल अस्तित्व में आ गया।

Full form of url

यूआरएल कैसे काम करता है ?
इंटरनेट पर उपलब्ध सभी वेबसाइट का अपना-अपना का अपना-अपना आईपी ऐड्रेस IP Address होता है। आईपी एड्रेस का उदाहरण जैसे कि 64.233.167.99 यह गूगल का आईपी एड्रेस है। इसी प्रकार हर वेबसाइट का एक आईपी एड्रेस होता है।

शुरुआती दिनों में  आईपी एड्रेस से ही ही से ही ही किसी  वेबसाइट तक पहुंचा जाता जाता था यानी कि उसे एक्सेस कर सकते थे और आपको बता दें कि किसी भी वेबसाइट का आईपी एड्रेस याद रखना बहुत ही मुश्किल का काम है यदि आपको बोला जाए कि गूगल को उसके ip-address से सर्च कीजिए तो आप नहीं कर पाएंगे क्योंकि आपको आईपी एड्रेस पता ही नहीं है और आप पता भी कर लेंगे तो कितने वेबसाइट का याद रख पाएंगे।

इसी चीज को ध्यान में रखते हुए और DNS को लाया गया। DNS क्या होता है ? DNS का Full form होता है Domain Name System.  साधारण भाषा मे समझ लीजिए इसका काम है आपके वेबसाइट को एक नाम देना, जैसे कि Jankari.Online

यूआरएल कैसे काम करता है इसको समझना बहुत ही आसान है। जब आप ब्राउज़र पर किसी वेबसाइट की यूआरएल यूआरएल यूआरएल किसी वेबसाइट की यूआरएल यूआरएल यूआरएल को टाइप करते हैं तो वह आपको उस यूआरएल से कनेक्ट वेबसाइट को दिखाता है। तो यूआरएल का काम है यूजर का काम है यूजर को होस्टेड डाटा को दिखाना।
होस्टेड डाटा क्या होता है? होस्टेड डाटा वह होता है जो सर्वर में या कहे होस्टिंग में पहले से सेव होता है।

होस्टिंग क्या होती हैं?

किसी भी वेबसाइट को  विजिट करते हैं तो उन पर उपलब्ध सभी जानकारियां डाटा होती है। जो डाटा आपको दिखती है क्या आपको पता यह कहां होती है आपको होती है आपको कैसे दिखती है आप तक कैसे पहुंचती है। तो इसका जवाब है होस्टिंग।

इंटरनेट में एक स्थान या फिर एक सर्वर होता है जहां पर उस विशेष वेबसाइट का सारे डाटा पहले से ही save या सेव रहते है। यह काम DNS की मदद से अपने यूज़र तक उस सारी तक उस सारी जानकारी को उसके ब्राउज़र पर पहुचता है।

डाटा क्या होता है ?
डाटा वह जानकारी होता है जिसे आप जानना चाहते हैं जिसके लिए आप उस वेबसाइट को विजिट कर रहे हैं उसे डाटा कहते हैं। इस डाटा को जो वेबसाइट के मालिक होते हैं वह अपने होस्टिंग पर सेव करके रखते हैं, जैसे ही उनके वेबसाइट पर कोई विजिटर आता है तो वह आसानी से उसे एक्सेस कर सकता है ओर अपनी जिज्ञासा को पूरा करता है।

यूआरएल के कम्पोनेंट्स Components of URL/ Parts of Url
यूआरएल का गठन बहुत सारी चीजों को मिलाकर होता है। उसे हम  कम्पोनेंट्स कहते हैं।  उदाहरण के लिए आप इसे देखकर देखकर समझ सकते हैं:- “http://www.google.com“.

HTTP – यह यूआरएल का पहला भाग है। इसकी मदद से सूचनाओ का आदान प्रदान होता है। ये दो तरह के होते हैं – HTTP & HTTPS.

What is the Full Form Of HTTP & HTTPS?
HTTP – Hyper Text Transfer Protocol  HTTPS – Hyper Text Transfer Protocol Secure

www -यह url का दूसरा हिस्सा है।  यह एक ऐसी तकनीक है, जिसके कारण पूरे संसार के कंप्यूटर एक दुसरे से जुड़े हुए हैं। वर्ल्ड वाइड वेब को WWW या W3 कहते हैं  वर्ल्ड वाइड वेब की ख़ोज Tim Berners Lee और Robert Cailliau ने 1989 में स्विट्ज़रलैंड में की थी।

WWW Full Form – World Wide Web

Google –  यह इसका तीसरा हिस्सा है। जिसे हम डोमेन नेम से जानते हैं। डोमेन नेम किसी वेबसाइट का नाम होता है जैसे हमारे वेबसाइट का नाम है “जानकारी ऑनलाइन” इसका डोमेन नेम है – “jankari. online”.

.Com – चौथा पार्ट होता हैं एक्सटेंशन। एक्सटेंशन आपके साइट के नाम के आखिर में होते हैं। यह बहुत तरह के होते हैं जैसे – .Com, .In, .Org, .Gov

यह थी Full form of URL और URL से जुड़ी  कुछ खास बातें आशा करता हूं कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी और आपके काम की होगी। इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें।







1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here